राजनीतिक दल-बदल हमारी संसदीय प्रणाली के सुगम संचालन में एक प्रमुख बुराई के रूप में उदित हुआ है। भारत में दल-बदल के प्रमुख कारण क्या है? स्पष्ट कीजिए।

राजनीतिक दल-बदल हमारी संसदीय प्रणाली के सुगम संचालन में एक प्रमुख बुराई के रूप में उदित हुआ है। भारत में दल-बदल के प्रमुख कारण क्या है? स्पष्ट कीजिए।                               अथवा भारतीय … Read more

भारतीय संदर्भ में लोकतंत्र में विरोधी दलों की भूमिका।

भारतीय संदर्भ में लोकतंत्र में विरोधी दलों की भूमिका। भारतीय संदर्भ में लोकतंत्र विरोधी दलों की भूमिका (With Refrence to India the Role of Opposition in Democracy) लोकतांत्रिक शासन-व्यवस्था में राजनीतिक दलों का होना अनिवार्य है। इस व्यवस्था के अंतर्गत होने वाले सामान्य निर्वाचन में … Read more

भारत में दल-प्रणाली के विकास और विशेषताओं का वर्णन कीजिए।

भारत में दल-प्रणाली के विकास और विशेषताओं का वर्णन कीजिए।                                    अथवा “भारतीय राजनीतिक दलीय व्यवस्था राष्ट्रोन्मुखी न होकर व्यक्तिन्मुखी है।” विवेचना कीजिए। भारत में दलित प्रणाली का विकास(Growth … Read more

भारत के निर्वाचन आयोग के संगठन, शक्तियों एवं कर्तव्यों का वर्णन कीजिए।

भारत के निर्वाचन आयोग के संगठन, शक्तियों एवं कर्तव्यों का वर्णन कीजिए। भारत का निर्वाचन आयोग(Election Commission of India) लोकतंत्र की सफलता और उसका भविष्य निर्वाचन-व्यवस्था की निष्पक्षता पर निर्भर करता है। लोकतंत्रीय शासन-व्यवस्था में निर्वाचनों का विशेष महत्व है क्योंकि निर्वाचन ही ऐसा माध्यम … Read more

प्रजातंत्र के प्रकार तथा गुण एवं दोष की आलोचनाएं।

प्रजातंत्र के प्रकार तथा गुण एवं दोष की आलोचनाएं। प्रजातंत्र के प्रकार(Forms of Democracy) प्रजातंत्र मुख्य रूप से दो प्रकार का होता हैं- (1) प्रत्यक्ष प्रजातंत्र (Direct Democracy)- जब जनता द्वारा प्रत्यक्ष रूप से शासन कार्यों में भाग लिया जाता है तो उसे प्रत्यक्ष लोकतंत्र … Read more

भारत में संसदीय व्यवस्था या लोकतंत्र के भविष्य की विवेचना कीजिए।

भारत में संसदीय व्यवस्था या लोकतंत्र के भविष्य की विवेचना कीजिए।                                  अथवा भारत में संसदीय लोकतंत्र के भविष्य पर एक निबंध लिखिए। भारत में संसदीय व्यवस्था या लोकतंत्र का … Read more

लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक परिस्थितियां या शर्तें

लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक शर्तें । लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक परिस्थितियां या शर्तें (Necessary Conditions for the Success of Democracy) लोकतंत्रात्मक शासन ‘यथा प्रजा तथा राजा’ के सिद्धांत पर आधारित है । मानव-व्यवहार को सुधार कर ही इस शासन व्यवस्था में … Read more

Categories PG

लोकतंत्र से आप क्या समझते है ? इसके आधारभूत सिद्धांत

लोकतंत्र से आप क्या समझते है ? इसके आधारभूत सिद्धांत                                          अथवा प्रजातंत्र का अर्थ बताइए तथा इसके आधारभूत सिद्धांत की आलोचना कीजिए ।     … Read more

Categories PG

भारत में प्राचीन तथा आधुनिक लोकतांत्रिक चिंतन एवं परंपरा के विकास।

भारत में प्राचीन तथा आधुनिक लोकतांत्रिक चिंतन एवं परंपरा के विकास।                                     अथवा भारत में प्रजातांत्रिक विचारों के विकास की विवेचना। भारत में प्राचीन प्रजातांत्रिक चिंतन तथा परंपरा … Read more

Categories PG

गांधी जी की ‘साध्य एवं साधन’ की धारणा पर प्रकाश डालिए।

गांधी जी की ‘साध्य एवं साधन’ की धारणा पर प्रकाश डालिए। गांधी जी की ‘साध्य एवं साधन’ की धारणा (1) साध्य एवं साधन- साम्यवादियों एवं भौतिकवादियों की इस धारणा से कि ‘साध्य साधन का उचित मापदण्ड है’ गांधी जी पूर्णतया असहमत थे। वे साध्य को … Read more

Categories PG